Skip to content

दुर्मिल सवैया :– भाग -10

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

कविता

March 18, 2017

हिय में अपने प्रभु नाम भजो ।
मनमोहन सोहन श्याम भजो ।

भज धन्य धरा मथुरा नगरी ।
प्रभु जन्म लिए हर धाम भजो ।

वशुदेव भजो भज देवकि को ।
हल धारक हैं बलराम भजो ।

सत सत्य स्वरूप सुहावन है ।
पुरुषोत्तम हैं प्रभु राम भजो ।

अनुज तिवारी “इंदवार “

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
दुर्मिल सवैया :-- भाग -11
ऋषिकेश , जनार्धन , निर्गुण को । हरि , दीनदयाल , गुपाल भजो । कमलेश भजो , अवधेश भजो । मयुरेश भजो , महिपाल भजो... Read more
दुर्मिल सवैया :-- प्रथम खण्ड ॥॥
*दुर्मिल सवैया छंद* :-- प्रथम-खण्ड *चित चोर बड़ा बृजभान सखी* ॥ 8 सगण / 4 पद रचनाकार :--अनुज तिवारी "इंदवार" ॥ 01॥ अंधियारि अमावस रात... Read more
व्यंगयुक्त तुकबंधी
एक पुरानी व्यंगयुक्त तुकबंधी नाम की महिमा भजो प्रभु का नाम बने तेरे, बिगढ़ेे काम देख हाल प्रभु चकराये नाम की महिमा से शरमाये किस... Read more
सदोका मलिका ...प्रभु
सदोका मालिका.. प्रभु ****************** जानूँ प्रभु को रहता प्रयास में पोथी पढता सत्संग में भी जाता बाँचता धर्मग्रन्थ जान न पाया प्रभु की यह माया... Read more