दुर्मिल सवैया :-- चित चोर बड़ा बृजभान सखी - भाग -1 !!

दुर्मिल सवैया :–
चितचोर बड़ा बृजभान सखी !! भाग -1
मात्रा-भार :–
112 -112 -112 -112
112 -112 -112 -112

!! 1 !!
सुन भानु मुडेर चढ़ा अब तो
नव ज्योति उठी पहचान सखी !

सब काग-विहाग उड़े उर के
मन गावत है प्रिय गान सखी !

हिय को हिलकोर गया अब जो
लगता मुझको प्रतिमान सखी !

नित रोज़ सरोज खिले मन में
इक आनद सा अनजान सखी !!

!! 2 !!
सुधि मोहि नहीँ अपने तन की
कुछ आवत ना अब ध्यान सखी !

भयभीत बड़ी विपदा उमड़ी
यह रोग लगे बलवान सखी !

मन मार लियो तन थाम लियो
चित चंचल चाह उड़ान सखी !

प्रभु नाम जपूँ शुभ काम करुं
नहीँ भात मुही जलपान सखी !

!! 3 !!
मनमोहन सा मनमोहक सा
उर में बसगौ मेहमान सखी !

सब श्याम लगै सब श्याम दिखै
सपने करूँ श्याम बखान सखी !

सुन राग मुराद भरी अब तो
कर कौनु उपाय निदान सखी !

कुछ औषधि दे नहिं वैद बुला
जिय मा सुलगै अब प्राण सखी !

कवि :– अनुज तिवारी “इन्दवार”

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 156

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share