Skip to content

दुर्मिल सवैया :– चित चोर बड़ा बृजभान सखी – भाग -1 !!

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

कविता

August 30, 2016

दुर्मिल सवैया :–
चितचोर बड़ा बृजभान सखी !! भाग -1
मात्रा-भार :–
112 -112 -112 -112
112 -112 -112 -112

!! 1 !!
सुन भानु मुडेर चढ़ा अब तो
नव ज्योति उठी पहचान सखी !

सब काग-विहाग उड़े उर के
मन गावत है प्रिय गान सखी !

हिय को हिलकोर गया अब जो
लगता मुझको प्रतिमान सखी !

नित रोज़ सरोज खिले मन में
इक आनद सा अनजान सखी !!

!! 2 !!
सुधि मोहि नहीँ अपने तन की
कुछ आवत ना अब ध्यान सखी !

भयभीत बड़ी विपदा उमड़ी
यह रोग लगे बलवान सखी !

मन मार लियो तन थाम लियो
चित चंचल चाह उड़ान सखी !

प्रभु नाम जपूँ शुभ काम करुं
नहीँ भात मुही जलपान सखी !

!! 3 !!
मनमोहन सा मनमोहक सा
उर में बसगौ मेहमान सखी !

सब श्याम लगै सब श्याम दिखै
सपने करूँ श्याम बखान सखी !

सुन राग मुराद भरी अब तो
कर कौनु उपाय निदान सखी !

कुछ औषधि दे नहिं वैद बुला
जिय मा सुलगै अब प्राण सखी !

कवि :– अनुज तिवारी “इन्दवार”

Share this:
Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you