23.7k Members 49.8k Posts

दुर्मिल सवैया :-- चितचोर बड़ा बृजभान सखी !! -भाग -2

दुर्मिल सवैया :– भाग -2
चित चोर बड़ा बृजभान सखी !
मात्राभार :–
112 -112 -112 -112
112 -112 -112 -112

!! 4 !!

धरुं धीर शरीर अधीर हुआ
मन हार गयो मुसकान सखी !

सिर मोर मुखौट लटें लटकी
बड़ सुन्दर है परिधान सखी !

कर चक्र धरे कमलाकर वो
भुज सौ गज से बलवान सखी !

सब बाल सखा गुणगान करें
जब नाग बनो जलयान सखी !

!! 5 !!
छिति में जल में अरु अम्बर में
चहुंओर चला जसगान सखी !

बृज का नंदलाल गुपाल अ है
चितचोर बड़ा बृजभान सखी !!

गिरिधारि कहो मुरलीघर वो
सब नाम जपें भगवान सखी !

धन धान्य अपार भरा बृज में
खुशहाल सभी खलिहान सखी !

कवि :– अनुज तिवारी “इन्दवार”

Like Comment 0
Views 216

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Anuj Tiwari
Anuj Tiwari
Umaria
118 Posts · 52.4k Views
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल ,...