Feb 25, 2017 · कविता

दुर्मिल सवैया :-- चितचोर बड़ा बृजभान सखी- भाग 4

*दुर्मिल सवैया छंद* :– भाग -4
चित चोर बड़ा बृजभान सखी ॥
112—112—112–112
रचनाकार :– अनुज तिवारी “इंदवार”

॥ 7 ॥
अंधियारि अमावस रात भरी ।
दुविधा सुविधा बिनु जाग उठी ।

जब लाल जनी किलकारि सुनी ।
मनहारि उठी दुखियार उठी ।

सब देव सदैव सहाय बनो ।
इक पीर अधीर गुहार उठी ।

मचलाय उठी मनमोहन को ।
ममता उमड़ी लिपटाय उठी ।

240 Views
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल ,...
You may also like: