Jan 22, 2020 · कविता
Reading time: 1 minute

दुरियाँ

सोचा न था,दुरियाँ होगी,संग तेरे जज्बातों की।
वो लम्हें रीत गये,यादों से उन मुलाकातों की।।

रेखा”कमलेश ”
होशंगाबाद मप्र

3 Likes · 2 Comments · 26 Views
Copy link to share
रेखा कापसे
83 Posts · 5.6k Views
Follow 7 Followers
नाम-रेखा कापसे, पता-होशंगाबाद मध्यप्रदेश, शिक्षा- BSc(biology)+GNM व्यवसाय- नौकरी "अभी तो चलना शुरु किया है, जह़न... View full profile
You may also like: