दुपट्टे पर एक गजल ---आर के रस्तोगी

दुपट्टे पर एक गजल

दुपट्टा अब तो आउट ऑफ़ फैशंन हो गया |
अब तो बेचारा ये फटकर बेकार हो गया ||

समझते थे कभी इसे शर्म-हया की निशानी |
अब तो बेशर्मी का ये रूप साकार हो गया ||

लहराते थे कभी दुपट्टे को इश्क को दर्शाने में |
कैसे दिखाई दे ये अब तो अन्धकार हो गया ||

आ जाती थी कभी छत पर लाल दुपट्टा ओढ़कर |
पता चल जाता था,मोहब्बत का इजहार हो गया ||

ओढती थी दुपट्टा जब निकलती थी लडकियाँ |
पता नहीं अब क्यों ये तन से फरार हो गया ||

कंधे से जब ये सरकता तो हाथ लपक लेता |
अब तो ये सीन देखना ही दुस्वार हो गया ||

रस्तोगी ने फाड़ कर दुपट्टा,घावो पर बाँध लिया |
बांधते ही घावो पर दुपट्टा,उसका दीदार हो गया ||

आर के रस्तोगी
मो 9971006425

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 5

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share