**दुख-सुख की सिर्फ एक ही साथी** नर नहीं है वो है सिर्फ नारी

** दुख सुख में जो साथ है देती
और नहीं कोई, नारी है
मुश्किल से जो जूझ है जाती
और नहीं कोई, नारी है

** रोने कभी नहीं देती वो
खुद सहती खुद रोती है
ममता देती पीड़ा सहती
मुँह से कुछ नहीं कहती है

** पुरुष प्रधान समाज में रहती
फिर भी अस्तित्व बना लेती
अपने को नहीं मिटने देती
साख अपनी बना लेती

** रोज सुबह उठकर के भी वह
काम सभी कर लेती है
शक्ति इतनी है उसमें
घर परिवार की देखभाल
रोजगार भी वह कर लेती है

** देवों ने भी माना लोहा
नारी ही वह शक्ति है
जिसके आगे नर मानव की
स्वयं अपनी अधूरी हस्ती है

** नारी से ही पूर्ण है नर
नारी से ही संपूर्ण शक्ति है
नारी से ही बना है नर
नारी से ही बल और बुद्धि है

** नीरु की वाणी ऐ मानव
रखना तुम हमेशा याद
नारी का न करना अपमान
इसे देना भरपूर सम्मान
भरपूर सम्मान जो दोगे इसको
जीवन में पाओगे यश और मान

** याद हमेशा रखना यह तुम
नारी है ,कमज़ोर नहीं ये

** दुख-सुख की है एक ही साथी
नर नहीं है वह है सिर्फ नारी

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 123

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share