May 20, 2018 · कविता
Reading time: 1 minute

**दुआ काम आ गई**

भलाई जीवन की दियासलाई
बात यही मुझे समझ में आई
जितनी ज्यादा करो भलाई
उतनी जले ये दियासलाई
कभी की होगी मैंने भलाई
तभी तो बुझते-2 भी जल गई
मेरे जीवन की ये दियासलाई
किसी की दुआ काम आ गई
मेरे जीवन की बुझती हुई
दियासलाई को फिर से जला गई
डूबती हुई नाव को डूबने से बचा गई
जीवन रूपी नैया को फिर से चला गई
मौत के साये से दूर भगा गई
नया जीवन वो मुझे दिला गई
कर भला हो भला ये अहसास दिला गई
एक नई भलाई करने को उत्सुक बना गई
नए जीवन की अभिलाषा मुझमें जगा गई
मुझे प्यार से जीने की राह दिखा गई
किसी की प्यारी दुआ
मुझे मरकर जीना सीखा गई ।

5 Likes · 562 Views
Copy link to share
Neelam Chaudhary
Neelam Chaudhary
110 Posts · 77.1k Views
Follow 41 Followers
*Writer* & *Wellness Coach* ---------------------------------------------------- मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी... View full profile
You may also like: