.
Skip to content

** दुःख किण सूं कहूं साजना **

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

मुक्तक

March 18, 2017

दुःख किण सूं कहूं साजणा
दिन गिणतां रातां गिणी
सुपणा अब सब रीत गया
आंख्यां सूं ढळ गयो पाणी
प्रीतम थारां पगळ्या निरख
निरख गयो आँखें रो पाणी
ना आसे पासे सुणनियों
म्हारे हिवड़े री पीड़
दिन गिण काढू लीकडली
काढूं कियां अब रातड़ली
सुण तूं अब तो कागला
कद आसी म्हारा पिऊ
सुगन करे तूं सांतरां
अब जल्दी आसी पिऊ
कागा तने रोटी खिलाऊं
जद घर आसी म्हारा पिऊ
नी तो जासी म्हारा जिऊ
कागला साची-साची बतादे
कद आसी म्हारा पिऊ।।
?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि... Read more
Recommended Posts
*भजन*
*भजन* ?*******? पीरां में पीर कहावे रामापीर आन हरो म्हारे हिवड़े री पीर ****** अरे ध्यावे थांने अखो बीकाणो ध्यावे थांने जोधाणो सारो ******* अरे... Read more
**** सावण आयो झूम के****
सावण आयो झूम कै अंखियां बरषण लागी म्हारी नैणा सूं बरषण लाग्यो ज्यों दरया रो पाणी । प्रितमड़ा तूं दूर जाके भूल गयो क्यों प्रेम... Read more
** आजा मेरे पिऊ **
पपिया बोले पीयू पीयू अब कैसे मै जिऊं बादल बिन बरसात कैसे प्यास ये बुझे स्वाति बूंद ना गिरे अब प्राण ये घिरे मत तरसा... Read more
*** जल -बिन  मीन ***
रैन गयी रमता-रमता दिवस भयो परभात जिण मिलना था मिली गया वा मिलन री रात पिव गयो परदेश सिधार आवे याद मिलण री रात पिवजी... Read more