दुःख उदासी पीड़ा

देख- देख के रोना क्या,
जिंदगी में पाना और खोना क्या ,
आज हमारा था जो ,कल हुआ बेगाना .

दुःख ,उदासी पीड़ा मायूसी में क्या जीना ।

उलझनों और विषादों में रहना क्यों है भाई
दूसरों के विवादों में पड़ना क्यों है भाई ,
अपनी डफली अपना राग, यही तो हमको गाना .

दुःख, उदासी पीड़ा ……..

अपनी बराबरी मत करना ,बड़ों के व्यवहार से
जीतना है तो दिल जीत लो, अपने प्यार से ,
कुछ पाने के लिए गलत कदम न उठाना .

दुःख उदासी पीड़ा ……..

जज्बात में आकर कुछ गलत कर लेते हैं,
बेवज़ह हम , मुसीबत मोल लेते हैं,
मान मेरा ये कहना , ऐसा कभी न करना .

दुःख उदासी पीड़ा ……..

करो कर्म जी जान से,
मत घबराना तू मान-अपमान से,
जो बीत गई सो बात गई, उसपर क्या पछताना .

दुःख उदासी पीड़ा मायूसी में क्या जीना ।

निरंतर आगे बढ़ते रहिये (युवाओं को समर्पित) 👌

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 1 Comment 0
Views 38

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share