.
Skip to content

दीयों में जल रहा बचपन

इंदु वर्मा

इंदु वर्मा

कहानी

January 5, 2017

“साहब साहब 10 के छः हैं ले लीजिये न
एक दम पक्के हैं देखो तो सही
ये देखो इस दीये पर रंगो से डिज़ाइन भी बना है…
अच्छा ठीक है आपके लिए 10 के 7 लगा दूंगा”
कमर में दियों से भरी टोकरी अटकाए
(बिलकुल वैसे जैसे किसी माँ ने बच्चे को कमर पे उठा रखा हो)
एक पुरानी पर साफ़ सुथरी सी कमीज में खुद को समेटे हुए(शायद किसी ने दीवाली की सफाई में निकाल दिलदार हो कर दी थी)10-12 साल का वो बच्चा न न बच्चा कहां था वो टोकरी में ज़िम्मेदारी का बोझ लिए घूम राह था वो तो….उस आदमी के पीछे पीछे बहुत दूर तक आ गया….
वो मनुहार करता नहीं थक रहा था और साहब जी मना करते करते(क्यों न करते बाजार से नयी डिज़ाइन वाली लाइट,मोमबत्ती जो लाये थे)
“अरे नहीं लेना न” समझ नहीं आता????
“साहब दीयों बिना कैसी दीवाली ले लीजिये न…
आपके लिए और कम लगा दूंगा…
ले लीजिये न…..”
आखिर साहब के मन का राम जागा
“चल दे दे 20 के लेकिन बाती के लिए रूई साथ देना… बच्चे की आँखों में चाइनीज लड़ियों के लट्टू जगमगा गए….
और फटाफट 20 के दीये और थोड़ी बत्ती थैली में डाल दिए “साहब 20 के और दे दूँ??
5 दीये ज्यादा दे दूंगा घर की रंगोली पे भी लगाना और दीवार पर पास पास रखोगे न तो देखना घर दूर से ही झिलमिला उठेगा…”
“ले रख तेरे ये दीये भी” और दीये लेने की कहते ही अब साहब के अंदर का “रावण” जाग गया….और जोर से उसकी टोकरी में पटक दी थैली..
कुछ दियो के साथ उसका दिल भी चटक गया..”
गर्म अंगारे सी आंखें निकाले फिर झल्लाया “कितने भी दीये लगाऊ तुझे क्या फर्क पड़ता है??? बेवजह दिमाग ख़राब कर दिया…चल निकल यहाँ ये और आगे बढ़ने को हुआ की…..
दीये सी झिलमिलाती आँखों को पानी से भर कर बस इतना ही बोला “साहब आपके घर में कुछ दीये और जल जाते तो शाम को मेरे घर भी दीवाली मन जाती” और शर्ट के कोने से आँखें पोंछ मुड़ गया….
“मैडम जी दीये ले लो बाती की रूई फ्री दूंगा”

“इंदु रिंकी वर्मा” ©

Author
इंदु वर्मा
मैं "इंदु वर्मा" राजस्थान की निवासी हूं,कोई बहुत बड़ी लेखिका या कवयित्री नहीं हूं लेकिन हाँ लिखना अच्छा लगता है सामाजिक विषयों और परिस्थितियों पर मन और कलम का गठबंधन करके ☺ कोई किताब या पत्रिका भी नहीं छपी पर... Read more
Recommended Posts
ग़ज़ल- सागर पे है भारी देखो
ग़ज़ल- सागर पे है भारी देखो ★★★★★★★★★★★ जिससे मेरी यारी देखो उसने की गद्दारी देखो आँसू का ये बहता दरिया सागर पे है भारी देखो... Read more
नव-वर्ष संकल्प
मन वचन और कर्म से यारो मनन करें, नये साल पर नया सा कुछ प्रण करें, नया साल आया है नई आशायें लेकर, नये साल... Read more
ग़ज़ब हो रहा.............
"आखिरकार.... साहब माफ़ करना, सोचने की बात हैं कि, "ग़ज़ब हो रहा था" या "सब कुछ ग़ज़ब हुआ था" साहब..... इसमें अज़ीब यह नहीं कि,... Read more
आ कर तो देखो
कभी मेरी बाहों में आ कर तो देखो, ज़रा मुझको अपना बनाकर तो देखो। करूँगा तुम्हें प्यार सबसे जियादा, महब्बत मेरी आजमा कर तो देखो।... Read more