.
Skip to content

दीपावली

विजय कुमार अग्रवाल

विजय कुमार अग्रवाल

कविता

October 30, 2016

दीप जलाओ द्वार सजाओ खुशी मनाओ मिल कर आज ।
आई दिवाली लाई खुशहाली दीप जलेंगे हर घर आज ॥
हर घर द्वार सजे रंगोली स्वागत आपका मेरे द्वार ।
मिल जुल कर सब खुशी मनाए सरहद तक फैला दे प्यार ॥
हरेक दिया है मेरा समर्पित आज देश के उस रक्षक को ।
जिसके बल पर मना रहा हूँ मै दिवाली अपने घर पर

Author
विजय कुमार अग्रवाल
मै पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बिजनौर शहर का निवासी हूँ ।अौर आजकल भारतीय खेल प्राधिकरण के पश्चिमी केन्द्र गांधीनगर में कार्यरत हूँ ।पढ़ना मेरा शौक है और अब लिखना एक प्रयास है ।
Recommended Posts
कविता :-- ऐसी आज दिवाली हो ॥॥
कविता :-- ऐसी आज दिवाली हो ॥ चाहत के बाजार सजे हों । दिल के पावन द्वार सजे हों । हर घर हो दीपक सा... Read more
*तभी समझो दिवाली है*
जलाओ दीप जी भर कर, दिवाली आज आई है। नया उत्साह लाई है, नया विश्वास लाई है। इसी दिन राम आये थे, अयोध्या मुस्कुराई थी।... Read more
सार्थक दिवाली
? *सार्थक दिवाली*? *एक दीप,* शहीद के घर, गरीब के दर, अंधेरे बाली राह पर, *एक दीप,* वुजुर्गो के आश्रम, शिक्षा के पराक्रम, मुक्तिधाम टूटे... Read more
इस दिवाली पर
*** इस दिवाली पर ** ————————— प्रेम का एक दीपक जलाना , इस दिवाली पर । रोशनी को छोड़ना तू, किसी बेबस की थाली पर... Read more