.
Skip to content

दीदार -ऐ-यार (ग़ज़ल)

Onika Setia

Onika Setia

गज़ल/गीतिका

October 24, 2017

खबर सुनी जब से उनके आने की हमने ,
खोल दिए दिल के दरवाज़े सभी हमने ,

सब गुनाहों को साफ़ कर अपने आंसुओं से,
कालीन बिछा दिए अपने आँचल के हमने .

झाड़कर गर्द फानूस-ऐ-इल्म की रोशन किया,
चिरागों से मन के अंधेरों को मिटाया हमने.

कुछ प्याले भरे आंसुओं से ,और कुछ आहों से ,
अपने दर्दों गम का दस्ताखन बिछाया हमने,

मुहोबत के धागे मैं पिरोकर हसरतों के फूल ,
बड़ी शिद्दत से उनके लिए हार बनाया हमने,

अपनी जिंदगी की नाव को उनके हवाले करने को ,
अपना माझी जो उन्हें बनाया था हमने .

मगर हाय ! तकदीर को मंज़ूर नहीं था यह दीदार ,
अपनी बेकरार रूह को बस किसी तरह समझाया हमने.

Author
Onika Setia
नाम -- सौ .ओनिका सेतिआ "अनु' आयु -- ४७ वर्ष , शिक्षा -- स्नातकोत्तर। विधा -- ग़ज़ल, कविता , लेख , शेर ,मुक्तक, लघु-कथा , कहानी इत्यादि . संप्रति- फेसबुक , लिंक्ड-इन , दैनिक जागरण का जागरण -जंक्शन ब्लॉग, स्वयं... Read more
Recommended Posts
कविता: भगवान का पता
हमने लिखना खत चाहा,पर पता आपका पाया नहीं। हमने पूछा हर किसी से,पर किसी ने बताया नहीं।। १.हमने पूछा फूलों से,फूल मुस्क़रा दिए। हमने पूछा... Read more
रस्म-ए-मोहब्बत
रस्म-ऐ-मोहब्बत हम रस्में मोहब्बत को ऐसे अदा किए । दुनिया ने दिए जख्म हम तो मुस्कुरा दिए।। इजहारे मोहब्बत करें चाहा बहुत मगर। तेरे गुरुर... Read more
जिंदगी नही मौत गले लगा ली हमने
जिंदगी नही मौत गले लगा ली हमने वो पास आये नही,खुद को सजा दी हमने इंतज़ार करते रहे मरते दम तक उनके इन्तजार में ही... Read more
मुहोबत  : ख्वाब  या हकीक़त (ग़ज़ल )
मुहोबत : ख्वाब या हकीक़त (ग़ज़ल ) ऐ खुदा ! तेरी दुनिया में मुहोबत बस एक खवाब है, जिसका एक अफसाना किताबों के सिवा कहीं... Read more