Skip to content

दिसम्बर

Akib Javed

Akib Javed

मुक्तक

December 6, 2017

छंद मुक्त रचना: दिसंबर

साल का अंतिम महीना हूँ
महीनों का मैं नगीना हूँ
गर्मी को मैं देता मात
जाड़े की लाता सौगात
काम धाम सारे छोड़कर
रजाई में अब बैठो ओढ़कर
आग जलाओ चारों ओर
बिना कुछ भी अब सोच कर
मूंगफली का महीना हूँ
हां मै दिसम्बर महीना हूँ
रजाई छोड़ने का मन ना हो
सुबह कँही जाने का दिल ना हो
ओस की बरसात हो
कड़कड़ाते अब दांत हो
हाड कपाती सर्दी हो
कपड़ो से लदा इंसान हो
साल का अंतिम महीना हूँ
महीनों का मैं नगीना हूँ
हां मैं दिसम्बर महीना हूँ।।

®आकिब जावेद

Share this:
Author
Akib Javed
From: बाँदा
मेरा नाम आकिब जावेद है| पिता - श्री मो.लतीफ़ , माता- श्रीमती नूरजहां | मैं एक छोटे से क़स्बे बिसंडा जिला बाँदा (उत्तर प्रदेश) का निवासी हूँ| जन्मतिथि- 06-02-1993, शिक्षा- स्नातक कंप्यूटर साइंस, उत्तीर्ण- प्रथम श्रेणी, सत्र-2012, कालेज- अवधेश प्रताप... Read more
Recommended for you