.
Skip to content

“दिवाली यूं मनाते हैं..”

Shri Bhagwan Bawwa

Shri Bhagwan Bawwa

मुक्तक

October 28, 2016

चलों, इस बार दिवाली कुछ यूं मनाते हैं !
किसी भूखे को भर पेट खाना खिलाते हैं !
ठिठुरता रहता है वो सर्द रातों में बेचारा,
उस बुढे के लिए एक रजाई बनवाते हैं !
तेरा घर तो सदा रोशन ही रहता है,दोस्त
आज कहीं अन्धेरे में कोई दिया जलाते है !
-श्रीभगवान बव्वा

Author
Recommended Posts
चलो दिवाली इस बार अलग मनाते हैं
आपको और आपके परिवार को दिवाली के पावन अवसर पर बहुत बहुत शुभकामनाएँ....... चलो दिवाली इस बार अलग मनाते हैं............. नाम शहीदों के चिराग जलाते... Read more
"अबकी दिवाली में " विधाता छंद 1222 1222 1222 1222 जलाकर दीप तम को तुम जरा यारों भगा देना। दिलों में क्लेश जो भी हो... Read more
खामोश अकसर जब भी मैं रहता हूँ
खामोश अकसर जब भी मैं रहता हूँ। तुम समझते हो मैं चुप ही रहता हूँ। हर बार शब्दों का शोर नहीं मुमकिन इसलिए कभी यूं... Read more
दिवाली को मैंने बस यूं अकेले मनते ही देखा है
मैंने अब रिश्तो में कटुता देखी है मन में कुंठा दिलों में उदासी देखी है कहने को है परिवार बड़ा.. दिवाली को मैंने बस यूं... Read more