Skip to content

दिवाली को मैंने बस यूं अकेले मनते ही देखा है

अनुजा कौशिक

अनुजा कौशिक

कविता

October 19, 2017

मैंने अब रिश्तो में कटुता देखी है
मन में कुंठा दिलों में उदासी देखी है
कहने को है परिवार बड़ा..
दिवाली को मैंने बस यूं अकेले मनते ही देखा है

स्वार्थ में है इंसान दुखी,मन में अहं की रेखा है
माफ़ी वो मांगे या मैं माँगू
मन में वैर पाले इंसान को मैंने देखा है
दिवाली को मैंने बस यूं अकेले मनते ही देखा है

अहं में एक दूसरे को बस नीचा दिखाते देखा है
टूट जाना मंजूर पर झुकते ना किसी को देखा है
ये “मैं” ही बस रिश्तो में लक्ष्मण रेखा है
दिवाली को मैंने बस यूं अकेले मनते ही देखा है

रिश्ता निभाने की पहल करे जो
उसे भी आंसू बहाते ही देखा है
अपनो की खुशी में खुद को जलाते ही देखा है
दिवाली को मैंने बस यूं अकेले मनते ही देखा है

माफ़ी मांग लेना और माफ़ कर देना
इक दूज़े को बस यूं ही गले से लगाना
मन में ना हो मैल..ना हो कोई झूठा फ़साना
मिलजुल कर बस सब खुशियाँ मनाना
ए दोस्त कुछ यूं तुम दिवाली मना जाना
सबके दिलों में घर कर जाना

स्वार्थ के लिये ना रिश्ते बनाना
मौका मिले तो सारथी बन जाना
दुख दूसरों के अपने बना जाना
घर के संग मन को भी अपने स्वच्छ कर जाना
कुछ इस तरह तुम दिवाली मनाना
मकसद हो बस खुशियाँ फ़ैलाना

न हो मन में कोई भी गांठ
ना ही हो कोई बदले की भावना
क्योंकि मैने अपनो को ही इस अग्नि में जलते देखा है
इस आग में अक्सर रिश्तो को मरते देखा है
आजकल दिवाली को मैंने बस यूं अकेले मनते ही देखा है
बस अकेले मनते ही देखा है
©® अनुजा कौशिक

Author
अनुजा कौशिक
मैं एक प्रोफ़ेश्नल सोशल वर्कर हूं..ज़िन्दगी में होने वाले अनुभवों और अपने विचारों की अभिव्यक्ति अपने लेखों और कविताओं के माध्यम से कर लेती हूं..
Recommended Posts
मोबाइल जिन्दगी
उठते ही मोबाइल देखा। सोते भी मोबाइल देखा।। चलते-फिरते खाते-पीते; बार-बार मोबाइल देखा।। मोबाइल प्रोफ़ाइल देखा। फ़ोटो की स्टाइल देखा।। कौशल अब भगवान से बढ़कर... Read more
सिसकता बचपन
इन सड़कों पर सिसकता बचपन देखा मैंने, फटे कपड़ों से झांकता तन बदन देखा मैंने। अपनी छोटी सी इच्छाओं को मन में दबाकर, झूठी मुस्कान... Read more
पलाश का साधुत्व
ऐ पलाश! मैंने देखा है तुम्हें फूलते हुए, देखा है मैंने- तुम्हारी कोंप-कोंप से प्रस्फुटित होते- यौवन को.. मैंने देखा है, तुम्हें वर्ष भर फाल्गुन... Read more
शायरी
बेदर्द जमाने में दर्द बहुत हैं पर मैंने तो देखा यहाँ खुदगर्ज बहुत हैं बेवजह में टांग अडाने वाले परेशां इंसान बहुत हैं , और... Read more