दिवाली और मेरे शेर

दिवाली और मेरे शेर

दिवाली का पर्व है फिर अँधेरे में हम क्यों रहें
चलो हम अपने अहम् को जलाकर रौशनी कर लें

*************************************

दिवाली का पर्व है अँधेरा अब नहीं भाता मुझे
आज फिर मैंने तेरी याद के दीपक जला लिए

दीपाबली शुभ हो

Like Comment 0
Views 122

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing