कविता · Reading time: 1 minute

दिवानगी

°°°°°°°°°°°
थां सूं दूरी
घणी मजबूरी
हियो री हिलोर नै
जै लेवण दूं हिलोर
समंदर बण जावै
धरा री कोर कोर
गौरी म्हारो तन बैचैन
मन बैचैन
म्हारै हिवडै़ रा सै सुर बैचैन
सै राग बैचैन
हियै री धड़कन सूं
सारो जग बैचैन
चैन थानै ई नीं है
म्हू जाणूं
म्हूं हवा में घुळयोड़ा
थारा सांस पिछाणूं
थूं चेतै करनै
हिचकी ल्यै
म्हू महसूस करूं
थूं दूर है
पण थानै
हियै में महसूस करूं
क्यूंकै
जितरी थूं दिवानी
उतनो म्हूं दिवानो
आ दिवानगी
थूं ई महसूस करै
अर म्हूं ई महसूस करूं
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
पृथ्वीराज चौहान

35 Views
Like
You may also like:
Loading...