Skip to content

दिल

सगीता शर्मा

सगीता शर्मा

गज़ल/गीतिका

March 2, 2017

??दिल.??.

कभी दिल मुस्कुराता है.
कभी आँसू बहाता है.

कभी दिल टूट जाता है.
कभी सपने सजाता है.

कभी गुमसुम रहे ये दिल.
कभी कुछ गुनगुनाता है.

कभी दिल राज खोले तो.
कभी दिल सब छुपाता है.

कभी तो पास आता है.
कभी दिल दूर जाता है.

कभी शिकवे करे तुम से
कभी नगमें सुनाता है.

संगीता शर्मा.
?????

Author
सगीता शर्मा
परिचय . संगीता शर्मा. आगरा . रूचि. लेखन. लघु कथा ,कहानी,कविता,गीत,गजल,मुक्तक,छंद,.आदि. सम्मान . मुक्तर मणि,सतकवीर सम्मान , मानस मणि आदि. प्यार की तलाश कहानी पुरस्क्रति.धूप सी जिन्दगी कविता सम्मानित.. चाबी लधु कथा हिन्दी व पंजाबी में प्रकाशित . संगीता शर्मा.
Recommended Posts
दिल की सुनो
दिल की सुनो दिल क्या चाहत हैं ...... जहां दिल रोता हो , वहां कभी न रहा करो ...... डिप्रेशन ज्यादा ही बढ़ जाता हैं... Read more
मुक्तक
तेरे सिवा दिल में कोई आता नहीं कभी! तेरे सिवा दिल को कोई भाता नहीं कभी! मुझे मंजिल मिल न पायी तकदीर से लेकिन, सिलसिला... Read more
ग़ज़ल : दिल में आता कभी-कभी
दिल में आता कभी-कभी जग न भाता कभी-कभी । दिल में आता कभी-कभी ।। देख छल-कपट बे-शर्मी,, मन तो रोता कभी-कभी ।। आकर फँसा जहाँ--तहाँ,,... Read more
एक बात है दिल में
एक बात है दिल में एक गहरी सी रात है दिल में, तुमसे कहनी थी, एक बात है दिल में , कभी कभी करवट लेकर... Read more