.
Skip to content

दिल को सादर करो

बृजेश कुमार नायक

बृजेश कुमार नायक

गीत

February 15, 2017

प्रीतिमय व्योम बन दिल को सादर करो|
वह सहम जाएगा, ना अनादर करो |

उर सुलह जीत औ नेह-आधार है |
वह जवानी-सुआकर्ष की धार है |
हिय नहीं तो जगत भी निराधार है|
भाव गह किंतु मैली, ना चादर करो|

प्रीतिमय व्योम बन दिल को सादर करो|
वह सहम जाएगा, ना अनादर करो|

उर दुखाना कथानक पुराना हुआ|
अब मिलन का सुसाधन जमाना हुआ|
जग-भँवर में न फँसना जगत क्षार है|
आत्म-धन को धरम-गुरु -सा बादर करो|

प्रीतमय व्योम बन दिल को सादर करो |
वह सहम जाएगा, ना अनादर करो |

दिव्य अंतःकरण शुभ-अमिट प्यार है |
संस्कृति की सुआभा का त्योहार है |
चित्-सु आनंदरूपी सुखाधार है|
दीप्ति पहिचानों व इसका आदर करो|

प्रीतिमय व्योम बन दिल को सादर करो |
वह सहम जाएगा, ना अनादर करो |

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

चित्=आत्मा

Author
बृजेश कुमार नायक
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा जन्मतिथि-08-05-1961 प्रकाशित कृतियाँ-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" साक्षात्कार,युद्धरतआमआदमी सहित देश की कई प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेक सम्मानों एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित, जन्म स्थान-कैथेरी,जालौन निवास-सुभाष नगर,... Read more
Recommended Posts
दोपहर   बनकर   अक्सर  न   आया   करो
दोपहर बनकर अक्सर न आया करो। सुबह-शाम भी कभी बन जाया करो।। चिलचिलाती धूप में तपना है ज़रूरी। कभी शीतल चाँदनी में भी नहाया करो।।... Read more
ग़ज़ल
आँखो से ही कह दो जानम, गुप् चुप ही इक़रार करो, हमने कब ये माँगा तुमसे, चाहत को अखबार करो। शीशे का जो दिल रक्खोगे,... Read more
चाहें  कितना भी तुम हमसे  शिकवा करो
चाहें कितना भी तुम हमसे शिकवा करो पर न खामोशियों को यूँ ओढ़ा करो दिल हमारा जरा ये बहल जाएगा ख्वाब में ही सही मिलने... Read more
शहीद की पाती
मा भारती की पुकार है ये हे वीर सपूतों वार करो।। मातृभूमि की रक्षा हेतु न किसी आदेश का इंतज़ार करो बस वार करो वार... Read more