.
Skip to content

दिल से नहीं निकलता जो वो ख्याल हो तुम

डॉ सुलक्षणा अहलावत

डॉ सुलक्षणा अहलावत

गज़ल/गीतिका

December 10, 2016

दिल से नहीं निकलता जो वो ख्याल हो तुम,
उस खुदा की रचनाओं में बेमिसाल हो तुम।

तुम्हें पाने की ख्वाहिश दिल में लिए हुए हैं,
समझ ना सके वो शतरंज की चाल हो तुम।

खुदा से बढ़कर तो नहीं पर कम भी नहीं हो,
जिसमें खुद फँसना चाहें वो ही जाल हो तुम।

अंग अंग साँचे में ढ़ला ऊपर से तुम्हारा यौवन,
मदमस्त सागर की एक उफनती झाल हो तुम।

गुलाब की पंखुड़ियों सा नाजुक बदन लिए हो,
आईने से पूछ लेना रुप सौंदर्य का ताल हो तुम।

चाँद की चाँदनी का नूर भी तुम्हीं से कायम है,
उगते सूरज की लालिमा से भी लाल हो तुम।

“सुलक्षणा” चेहरे से नकाब ना हटने देना कभी,
वो खुदा जाने कितने आशिकों का काल हो तुम।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

Author
डॉ सुलक्षणा अहलावत
लिख सकूँ कुछ ऐसा जो दिल को छू जाये, मेरे हर शब्द से मोहब्बत की खुशबु आये। शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार में अंग्रेजी प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हूँ। हरियाणवी लोक गायक श्री रणबीर सिंह बड़वासनी मेरे गुरु हैं। माँ... Read more
Recommended Posts
कमल  केतकी  गुलाब  या गुलबहार  हो  तुम
कमल केतकी गुलाब या गुलबहार हो तुम सावन आये झूम के वो मल्हार हो तुम रोशनी से धुला दिन तारों से सजी रात मेरे लिये... Read more
मेरी जिंदगी मेरी जरूरत हो तुम
मेरी जिंदगी मेरी जरूरत हो तुम, कहूँ कैसे बहुत खूबसूरत हो तुम. सजदे में जिसे मैंने हर बार मांगा है, खुदा से मांगी हुई वो... Read more
मेरी हर नज़्म की शुरुआत हो तुम
पानी में घुलनशील जैसी कोई पदार्थ हो तुम मेरे दिल में बसी मेरे जज़्बात हो तुम मेरा दिन मेरा रात हो तुम खिलखिलाते फूलों की... Read more
मोहब्बत वो घर है !
तुम मिलो तो एक बार, दिल का हाल जताने के लिये, फ़िर हमें छोड़ किसी और का खयाल दिल मे नहीं आयेगा! …………………. तुम मेरे... Read more