31.5k Members 51.9k Posts

दिल से दिल को जोड़, प्रीति रंग गाती होली

(मुक्त छंद )

होली की हुड़दंग में भूल न जाना प्रेम |
विनती निज कर जोड़कर, करती कलम सप्रेम||
करती कलम सप्रेम, होलिका बुआ न बनना |
अमर नेह प्रहलाद रंग को, उर से चुनना ||
कह “नायक” कविराय, बोलिए पिक-सम बोली |
दिल से दिल को जोड़, प्रीति रंग गाती होली ||

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता
……………………………………………………………
होली की हार्दिक शुभकामनाएं
……………………………………………………………

180 Views
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Pt. Brajesh Kumar Nayak
156 Posts · 40.7k Views
1) प्रकाशित कृतियाँ 1-जागा हिंदुस्तान चाहिए "काव्य संग्रह" 2-क्रौंच सु ऋषि आलोक "खण्ड काव्य"/शोधपरक ग्रंथ...
You may also like: