.
Skip to content

दिल मानता नहीं

Abhinav Kumar Yadav

Abhinav Kumar Yadav

शेर

October 26, 2017

चाँदनी रातों में घनघोर अंधेरा होते देखा है,
नन्हीं सी आँखों में बड़े बड़े सपने देखा है,
करीब आकर अपना बनाकर दूर जाते देखा है,
दिल मानता नहीं वरना आँखों ने तो उन्हें किसी और के साथ देखा है।
अभिनव

Author
Recommended Posts
ग़ज़ल :-- आँगन में आत्मसमर्पण देखा !!
ग़ज़ल --: आँगन में आत्मसमर्पण देखा !! गज़लकार--: अनुज तिवारी "इंदवार" आग में झुलसी दुल्हन देखा ! जितनी भी सब निर्धन देखा !! ! अम्बर... Read more
इश्क (मुक्तक )
तेरे इंतज़ार में जागती इन आँखों को, देखा है अश्क-ऐ-गुहर से भरी महो-अंजुम की नज़रों नेे। और ज़रा सी आहट पर तपते फर्श पर, दौड़ते... Read more
मीठी नशीली बातों का काफ़िला भी देखा है.................................
मीठी नशीली बातों का काफ़िला भी देखा है जाने ग़ज़ल हमने वो काफ़िया भी देखा है पूछे लोग मुझसे क्या मैक़दा भी देखा है तेरी... Read more
ग़ज़ल - दोहरा के देखा था
इक किस्सा यूँ दोहरा के देखा था तुमको फिर आजमा के देखा था फिर न हँसने में वो मज़ा ही रहा मैंने हर ग़म भुला... Read more