Oct 19, 2017 · कविता

दिल जब रोता है...

दिल जब रोता है, तो खुद ही गुनगुना लिया करते हैं !
आंखों से निकलते हैं,जब अश्क के मोती, तो उन्हे खुद ही पुरो लिया करते हैं !

सोचा करूं उनसे एक बात,पर न कर सका गालिब !
बस सपनों में बुलाकर,सपना, से मुलाकात कर लिया करते हैं !

हसरत तो सदा रही उन्हें खुश देखने की,पर गम न दे दिया हो गालिब !
बस इसीलिए सदा उन्हें दुआएें, खुद को सजा दे लिया करते हैं !

बहुत मुश्किल है अश्कों से,दिल की बात को दबा पाना !
बस इसलिए लिखकर,कागजों से बतया लिया करते हैं !!2ंजीत घोसी

12 Views
PT I. B. A. B.P.Ed. H. S. School imaliya Gotegoan MP.
You may also like: