.
Skip to content

दिल को गिरवी दे रखा है

निर्मल सिंह 'नीर'

निर्मल सिंह 'नीर'

गज़ल/गीतिका

July 22, 2017

ख़ुद को धोखा देकर रखेगे , कब तक?
उस चाँद को दिल मे हम रखेगे, कब तक?

जिसको जाना था, न आयेगे वो चले गए हैं
हम रह पर भला नज़र रखेगे, कब तक?

इस इश्क़ बदौलत ये आलम अब होता है
हर चेहरे में वो चेहरा देखेंगे , कब तक?

वो कहा गए-आए? अब क्या मतलब है
और लेखा-जोखा हम रखेगे, कब तक?

वो घूमते है जहा भी उनका मन करता है
बंद कमरे में खुद को हम रखेगे, कब तक?

दिल को अपने अब मैंने गिरवी दे रखा है
इसको उस चौखट पे हम रखेगे, कब तक?
…………………………
निर्मल सिंह ‘नीर’
दिनांक – 14 जुलाई, 2017

Author
निर्मल सिंह 'नीर'
जन्म - गाँव त्योरासी, परसपुर जिला - गोंडा, उत्तर प्रदेश, शिक्षा - हाईस्कूल और इंटरमीडिएट - जवाहर नवोदय विद्यालय, मनका पुर, गोंडा, कार्यरत - रियाद सिटी, सऊदी अरब
Recommended Posts
--
२१२२--१२१२--२२ अर गया कब का आंख से तो उतर गया कब का जख्म सीने का भर गया कब का टूटकर दिल को अब समझ आया... Read more
वो चाहते हैं उनके शब्दों को महसूस करें हम
वो चाहते हैं उनके शब्दों को महसूस करें हम, नज़रों से नज़र हटे, तो कुछ आगे बढ़ें हम। चेहरे की लिखावट में ही कब से... Read more
~~ दिल की बात ~~~
वो आये और अपनी दस्तक दी हाल ऐ दिल चुपके से कह गए न बोले न कुछ कहा , बस जाते जाते, अपनी बात बस... Read more
प्यार का रोग ये लगा कब का
प्यार का रोग ये लगा कब का दर्द बदले में भी मिला कब का जिन्दगी समझा था जिसे अपनी छोड़ वो ही हमें गया कब... Read more