.
Skip to content

दिल की गहराइयों से वो हमें चाहती है

Shanky Bhatia

Shanky Bhatia

मुक्तक

December 9, 2016

हरपल मुश्किलों से खुद को वो झुठलाती है,
हमसे नफरत करती है, खुदको ये समझाती है,
जानती वो भी है कि बस अपना मन बहलाती है,
दिल की गहराइयों से टूटकर वो हमें चाहती है।

————शैंकी भाटिया
अगस्त 26, 2016

Author
Shanky Bhatia
Recommended Posts
कितनी नादां है वो जो मुझे भुलाना चाहती है,
Sahib Khan गीत Dec 10, 2016
कितनी नादां है वो जो मुझे भुलाना चाहती है, कहती है......... मैं खुश हूँ ! इसलिए भुलाना चाहती है, कितनी नादां है वो जो मुझे... Read more
तमन्ना है वो सलामत रहें सदा ही
कहते हैं वो तुम याद करते नहीं हो पर हमने तो उन्हें कभी भुलाया नहीं है । वो बसे हैं हर कोने में दिल के... Read more
तुमसे बिछड़ के दिल को ठिकाना नहीं मिला
तुमसे बिछड़ के दिल को ठिकाना नहीं मिला तुम सा कहीं भी हमको दीवाना नहीं मिला सपनें रहे अधूरे गिला ये रहा हमें वो चाहतों... Read more
इस दिल में एक दर्द है तन्हाई है
इस दिल में एक दर्द है तन्हाई है, वो मेरे घर कई रोज से नहीं आई है। मेरा दिल जिसे अपना मान कर बैठा है,... Read more