* दिल की ख्वाहिश *

दिल कहे मैं झूम लूँ ,
सारी दुनिया घूम लूँ ।
कोई ख्वाहिश रहे ना बाकि ,
उड़ के गगन को चूम लूँ ।।
दिल में जो है बोल दूँ ,
प्यार दिलों में घोल दूँ ।
जी लूँ हर अरमान को ,
ख़ुशी के रस्ते खोल दूँ ।।
हर गम को ख़ुशी से मार दूँ ,
जीवन नैया तार दूँ ।
जीवन के ये चार पल ,
दिल की ख़ुशी पे वार दूँ ।।

Like 2 Comment 0
Views 281

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing