.
Skip to content

दिल कहे, ‘आना-जाना’ चाहिए, रोज़ रोज़, ‘नया बहाना’ चाहिए।

Basant Malekar

Basant Malekar

गज़ल/गीतिका

February 5, 2017

#सफ़रनामा

दिल कहे, ‘आना-जाना’ चाहिए,
रोज़ रोज़, ‘नया बहाना’ चाहिए।

दीदार को, उस रेशमी मुखड़े का
अचूक, ‘नज़र-ऐ-निशाना’ चाहिए।

एक से बचे दूजे गस खाके गिरें,
नज़र भी हमें ‘क़ातिलाना’ चाहिए।

असर ज़माने का मेरी मोहब्बत पे
ईश्क़-ऐ-अदब ‘वहशीयाना’ चाहिए।

दिल कहे, ‘आना-जाना’ चाहिए,
रोज़ रोज़, ‘नया बहाना’ चाहिए।

Basant_Malekar

Author
Basant Malekar
अभी तक कुछ नही........ student of the KG1 बालोद, छत्तीसगढ़ कुछ सलाह रूपी आदेश अवश्य देते रहे, निवेदन है ??
Recommended Posts
ख़्वाब आँखों में सजाना चाहिए
ख्वाब आँखों में सजाना चाहिए हसरतों को पर लगाना चाहिए रास मुझकोे आएं कैसे ये खुशी ज़ख़्म कोई फिर पुराना चाहिए दर्द दिल में तो... Read more
देश भक्ति अब दिलों में झिलमिलाना चाहिए।
*गीतिका* देश में दीपक स्वदेशी जगमगाना चाहिए। लोभ से बचकर हमें यह पद उठाना चाहिए। और कितना सोए'गी आत्मा तुम्हारी रात भर। देश के लोगो... Read more
तुमको कोई गीत गाना चाहिए, राग दिल का गुनगुनाना चाहिए |
तुमको कोई गीत गाना चाहिए, राग दिल का गुनगुनाना चाहिए | नासमझ नादान नाजुक, इस ह्रदय की प्रीत है, गीत का हर शब्द तेरा, तुझपे... Read more
संग फूलों के सफर में खार होना चाहिए
अब चमन दिल का मेरे गुलजार होना चाहिए फिर ग़मों से जिन्दगी में इतवार होना चाहिए -------?------- अब वतन में हर तरफ ही प्यार होना... Read more