दिल -ए-दर्द

तबाह हुए गैरो की खातिर ।
लोग तमाशा देखने आ गए।।
एक चिंगारी जला गई हमें ।
लोग हाथ सेंकने आ गए।

शायर :- Rj Anand Prajapati
🌟🌟🌟❤❤❤🌟🌟🌟

Like Comment 4
Views 14

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share