Reading time: 1 minute

दिल उसपे आया सवेरे-सवेरे

मैं सो कर उठा था, सवेरे-सवेरे
कि दिल उसपे आया सवेरे-सवेरे

रज़ के नहाये वो सजधजके आये
और मैं भी नहाया ..सवेरे-सवेरे

बड़ी लज्जतें हैं चेहरे पे उसके
गेसू अधखुले-से …सवेरे-सवेरे

सुबह से अब शाम होने को आई
और मंजिल मिलेगी..सवेरे-सवेरे

आनंद!अगली सुबह भी मिलेगी?
रब का शुक्रिया हो.. सवेरे-सवेरे

@आनंद बिहारी
https://facebook.com/anandbiharilive/

1 Comment · 252 Views
आनंद बिहारी
आनंद बिहारी
25 Posts · 7k Views
Follow 1 Follower
गीत-ग़ज़लकार by Passion नाम: आनंद कुमार तिवारी सम्मान: विश्व हिंदी रचनाकार मंच से "काव्यश्री" सम्मान... View full profile
You may also like: