दिल्ली मर रहा है ।

दिल्ली मर रहा है ,
दिल्ली हांफरहा है ,
हवा में ज़हर घुल गया है।
और लोग,
आँख मूंदे चल रहें है ,

उफ;
साँस भी छान- छान के ले रहें हैं लोग ।
इंडिया गेट ग़ायब है ,
नहीं -नहीं चोरी नहीं हुआ
बेचा भी नहीं गया ,
ये तो प्रदूषण का कमाल है।
भरी दोपहर में ,
जब सूर्य अपनी जवानी पे होता है,
दिल्ली के सूरज को प्रदूषण निगल रहा है ।
बात नहीं ये खुश होने की ,
कि हम बचे हुए हैं ,
अब हमारी हम सब की बारी है।
जो बोया उसे काटना ही होगा
हरियाली से मुँह मोड़ के ,
ईंट पत्थरों से प्यार जता के ,
जलती सुलग़ती जिंदगी चुनने की।
सज़ा तो देगी प्रकृति।
जो लोग सोच सकते थे ,
बचा सकते थे ,बर्बाद होती नस्लों को
उन्हें फुरसत कहाँ ?
व्यस्त और बड़े लोग ,
बहुत कुछ करना है उन्हें ,
मंदिर -मस्जिद , पंडित -मुल्ला
गाय -सूअर , देशभक्त-देश द्रोही
ऐसे ही बड़े -बड़े काम
जनता जाये भांड में।
पटेल की मूर्ति ,पटेल के देश में
विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा।
क्या यही चाहते थे पटेल ?
कि जिन्दा लोगों को
शतरंज की मोहरों में बदल दिया जाय।
और मरे हुए लोगों की
मूर्तियों में उनके आदर्शों को दफ़ना दिया जाय ,
ताकि मुर्दा बस्ती में ,उनका नाम जिन्दा रहे।
शायद …

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 20 Comment 0
Views 121

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share