दिन आ रहे हैं

बदी को मिटाने के दिन आ रहे हैं।
नया दौर लाने के दिन आ रहे हैं।

अरे ओ फरेबी न तुझ पर भरोसा
कि तुझको मिटाने के दिन आ रहे हैं।

तुझ को मिटा कर ही अब सांस लेंगे
तिरंगा फहराने के दिन आ रहे हैं।

सुनी हैं कभी तूने सिंह की दहाड़ें
तुझे जड़ से हटाने के दिन आ रहे हैं।

वतन से बड़ा है न कोई जहां में
उस पर मिट जाने के दिन आ रहे हैं।

शमा ए वतन पर फिदा हम परवाने
तुझ पर जां लुटाने के दिन आ रहे हैं।

अजी आ गयी अब तो जल्दी दिवाली
दिये अब जलाने के दिन आ रहे हैं।

रंजना माथुर
अजमेर (राजस्थान )
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.

Like Comment 0
Views 2

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing