दिन आ रहे हैं

बदी को मिटाने के दिन आ रहे हैं।
नया दौर लाने के दिन आ रहे हैं।

अरे ओ फरेबी न तुझ पर भरोसा
कि तुझको मिटाने के दिन आ रहे हैं।

तुझ को मिटा कर ही अब सांस लेंगे
तिरंगा फहराने के दिन आ रहे हैं।

सुनी हैं कभी तूने सिंह की दहाड़ें
तुझे जड़ से हटाने के दिन आ रहे हैं।

वतन से बड़ा है न कोई जहां में
उस पर मिट जाने के दिन आ रहे हैं।

शमा ए वतन पर फिदा हम परवाने
तुझ पर जां लुटाने के दिन आ रहे हैं।

अजी आ गयी अब तो जल्दी दिवाली
दिये अब जलाने के दिन आ रहे हैं।

रंजना माथुर
अजमेर (राजस्थान )
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

Like Comment 0
Views 2

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing