.
Skip to content

गुजरा हुआ जमाना

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

गज़ल/गीतिका

February 1, 2017

दिनों के बाद गुजरा सामने से आशियाने के l
मिले फिर से कई किस्से मुझे बीते जमाने के ll

मिली सूनी पड़ी कोई हवेली राह तकती सी l
मिले सूखे हुए आंसू समय बीते बहाने के ll

मिला ऋतुराज भी अपनी उमंगों को समेटे साl
कहीं हो ढूंढता जैसे बहाने गुल खिलाने के ll

खड़ा ऊंचा हिमालय सा रहा मैं शीश को ताने l
नदी कल कल धरा पर चाल चलती है लुभाने के ll

चलो छोड़ भी यह गलियां रहा ना कंत का आना l
“सलिल” सब बंद अब ताले जो खुशियों के खजाने के ll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेशl

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
हर कोई बनना चाहे उसके प्रियतम
*हर कोई बनना चाहे उसके प्रियतम* l उसके तो चरणकमल है,चन्द्रवदन है l और नव्य मधु बसंत सा यौवन है ll सावन कि घटा सा... Read more
II  दिमागों में गुरूर देखा है.....  II
दिमागों में गुरूर देखा है l सलीके में शुरूर देखा है ll भरी दौलत से जेबे हैं जिनकी l उधारी में हुजूर देखा है ll... Read more
II....जो गाते रहे हैं....II
गमों को छुपा के जो गाते रहे हैंl अकेले में आंसू बहाते रहे हैं ll ए लैला ए मजनू किताबी जो बातें l अनाडी जगत... Read more
II  रास्ते में हूं...II
रास्ते में हूं, पर उसे ढूंढता l नासमझ हूं यह, क्या ढूंढता ll ईंट बालू के जंगल, वही देवता l फरियादों का क्यों, असर ढूंढ़ता... Read more