.
Skip to content

दिखाई देने वाला ख़्वाब हर क़ामिल नहीं होता

सर्वोत्तम दत्त पुरोहित

सर्वोत्तम दत्त पुरोहित

गज़ल/गीतिका

November 6, 2016

दिखाई देने वाला ख़्वाब हर क़ामिल नहीं होता
ज़ुबाँ से जो निकल जाए वो दर्देदिल नहीं होता

शमा रौशन हुई तो ख़ाक परवाना भी होता है
मुहब्बत में मिलन होना भी मुस्तक़बिल नहीं होता

चला जो तीर नज़रों का ज़िगर के पार निकला है
ख़लिश दिल में उठाकर भी वो क्यूँ कातिल नहीं होता

ज़िगर में रख के’ खुदगर्ज़ी नहीं आशिक़ बना कोई
है फ़ितरत जिसकी सौदाई वो बस ग़ाफ़िल नहीं होता

हुआ हासिल बताओ क्या यूँ नफरत पालकर दिल में
हुई जिसको मुहब्बत वो कभी संगदिल नहीं होता

बहाकर खून इंसानी तुझे हासिल न कुछ होगा
बढाना प्यार हर दिल में भी कुछ मुश्किल नहीं होता

ख़यालों में पिरोता हूँ मैं’ बस जज़्बात की लड़ियाँ
किसी का ग़म बंटाने को कुई शामिल नहीं होता

तज़ुर्बा ज़िन्दगी का मुझको बस इतना है जज़्बाती
परखना मत परखने से कोई काबिल नहीं होता
जज़्बाती

Author
सर्वोत्तम दत्त पुरोहित
मेरा नाम सर्वोत्तम दत्त पुरोहित है मैं राजस्थान के जोधपुर शहर का बाशिंदा हूँ , और न्याय विभाग में कार्यरत मैंने अपनी लेखनी को दिशाहीन चलाया उसके बाद मुझे एक गुरु मिले जिनसे मैंने ग़ज़ल लेखन की बारीकियां सीखी उन... Read more
Recommended Posts
ज़माने भर को मेरा सर,,,
ज़माने भर को मेरा सर दिखाई देता है, हर इक हाथ में पत्थर दिखाई देता है, वो एक चाँद कई दिन से जो गहन में... Read more
देने वाला देकर कुछ कहता कहाँ है||
हर पहर, हर घड़ी रहता है जागता बिना रुके बिना थके रहता है भागता कुछ नही रखना है इसे अपने पास सागर से, नदी से,... Read more
वो जीने की अब दुहाई दे रहा
वो जीने की अब दुहाई दे रहा अश्क आँखों में उसके दिखाई दे रहा आँखों का छिपा हुआ दर्द अब लबों से सफाई दे रहा... Read more
भाई
उसकी आंखों में हमें अपना ही अक्श नजर आता है । जब कोई ना हो साथ देने वाला तब वो शख्स नजर आता है ।... Read more