दास्तां सुना जाना

?????
मैं रात अंधियारी चंद्र प्रकाश बन आ जाना।
मेरे मन के आँगन में स्नेह दीप जला जाना।
शीतल,निर्मल,स्निग्ध चाँदनी सी अति सुन्दरतम्,
मंत्र मुग्ध करे कुछ ऐसी दास्तां सुना जाना।
?????
—लक्ष्मी सिंह ?☺

121 Views
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is...
You may also like: