.
Skip to content

दास्ताँ ऐ दर्द

डॉ सुलक्षणा अहलावत

डॉ सुलक्षणा अहलावत

गज़ल/गीतिका

November 28, 2016

मिलना कभी तुम फुर्सत में हाल ऐ दिल बताएंगे,
जख्म अपने दिल के उस रोज तुम्हें हम दिखाएंगे।

सीने में अपने दर्द का ज्वालामुखी दबा कर बैठे हैं,
कराह उठोगे जब अपने दर्द का अहसास कराएंगे।

मोहब्बत में नहीं चोट खाई हमने यकीं करना तुम,
क्या क्या बीती है दिल पर बारीकी से समझाएंगे।

छला हर रिश्ते ने हमें और छलकर मजाक उड़ाया,
सुनकर कहानी दग़ाबाज़ी की आँखों से आंसू आएंगे।

इसीलिए कहती हूँ अब भरोसा नहीं रहा किसी पर,
शायद ही जिंदगी भर किसी पर भरोसा कर पाएंगे।

दुनिया पढ़ सके दर्द को मेरे और एक सबक ले सके,
इसीलिए ‘सुलक्षणा’ से दर्द का हर लम्हा लिखवाएंगे।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

Author
डॉ सुलक्षणा अहलावत
लिख सकूँ कुछ ऐसा जो दिल को छू जाये, मेरे हर शब्द से मोहब्बत की खुशबु आये। शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार में अंग्रेजी प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हूँ। हरियाणवी लोक गायक श्री रणबीर सिंह बड़वासनी मेरे गुरु हैं। माँ... Read more
Recommended Posts
मुक्तक
इश्क रोकर सींचे तो क्या, मतलबी दुनिया बंजर है मासूमियत चेहरे पे तो क्या, नफरतों का ही मंजर है यहां बस दिल के बदले में... Read more
दिल में दर्द का एहसास क्यों हो रहा है/मंदीप
दिल में दर्द का एहसास क्यों हों रहा है/मंदीप दिल में दर्द का एहसास क्यों हो रहा है, मन में कोई संका का बीज बो... Read more
*   गीत:-  ऐ राधा ऐ राधा *
ऐ राधा ऐ राधा तेरे प्यार को मैं अब कौन सा नाम दूं दिल मेरा है तेरा इसे कौन सा नाम दूं ऐ राधा ऐ... Read more
दिल अपने को(गजल)
दिल अपने को हम समजा लेगे/मंदीप दिल अपने को हम समाज लेंगे, याद तुम्हारी में मन अपना बहला लगे। दिखे ना दर्द आँखो का, छुपकर... Read more