.
Skip to content

दहेज कुछ न देना

सगीता शर्मा

सगीता शर्मा

कविता

February 27, 2017

दहेज कुछ न देना.
विधा आप हमें बता देना
कौन सी है.
?????????
हमें कुछ नही चाहिये.
बस लड़की संस्कारी चाहिये.
शादी ऐसी कर देना.
दहेज कुछ न देना.
बारात की खातिर.
अच्छी कर देना.
अपनी बेटी को .
जो चाहो दे देना.
बस समाज में
मान रख लेना.
चाहे दहेज कुछ
न देना.
जैसी हो रही है.
शादी ऐसी कर देना.
चाहे दहेज कुछ
न देना.

संगीता शर्मा.
21/2/2017????????

Author
सगीता शर्मा
परिचय . संगीता शर्मा. आगरा . रूचि. लेखन. लघु कथा ,कहानी,कविता,गीत,गजल,मुक्तक,छंद,.आदि. सम्मान . मुक्तर मणि,सतकवीर सम्मान , मानस मणि आदि. प्यार की तलाश कहानी पुरस्क्रति.धूप सी जिन्दगी कविता सम्मानित.. चाबी लधु कथा हिन्दी व पंजाबी में प्रकाशित . संगीता शर्मा.
Recommended Posts
प्रेम भाव निश्छल देना
ना देना मुझको कोई उपहार ना धन दौलत मुझको देना देना हो अगर तुम्हें कुछ असीम स्नेह-भाव देना ।। ना देना मुझको कोई गहना, ना... Read more
तू तड़पादे या ठुकरादे मुझे तू मार ही देना
तू तड़पादे या ठुकरादे मुझे तू मार ही देना| मुहब्बत मे न हारा जो उसे तू हार ही देना|| जो तुझको फूल देता हो उसे... Read more
*लेना नहीं दहेज*
*लेना नहीं दहेज* दहेज कोढ़ है इस दुनिया में, कर लेना परहेज। लेना नहीं दहेज कभी भी, लेना नहीं दहेज।। ना लूंगा ना लेने दूंगा,... Read more
़आग दरिया में भी लगा देना
ग़ज़ल बहर २१२२ १२१२ २२ काफ़िया- आ रदीफ़- देना ख्वाब आए नहीं जगा देना। बुझ गया तो दिया जला देना। रात आकर मुझे सताती है... Read more