.
Skip to content

दहेज की आग

डॉ सुलक्षणा अहलावत

डॉ सुलक्षणा अहलावत

गज़ल/गीतिका

August 7, 2016

ज्वालामुखी सी सुलगती रहती है ये दहेज की आग,
हमने कानून बना दिए हैं सरकार अलापे यही राग।

पर दहेज की आग का दर्द एक पिता ही जानता है,
बेटी के सुख की चिंता में जो कब से से रहा है जाग।

सब कुछ बेच दिया उसने बेटी की खुशियों के लिए,
फिर भी पल पल खुशियों को डसता दहेज का नाग।

बेटे वाले खुश हो लेते हैं दहेज को बटोरकर पल भर,
भूल जाते हैं बेटा बेचा है उन्होंने, कैसे धुलेगा ये दाग।

मारी जाती हैं ना जाने कितनी बेटियाँ दहेज के कारण,
मार कर दूसरे की बेटी कहते पीछा छूटा थी वो निर्भाग।

कैसे भला होगा इन दहेज के लोभियों का खुद सोचो,
जब बीतेगी इनके साथ निकलेगा इनके मुँह से झाग।

कानून बनाने से कुछ नहीं होगा, सोच बदलनी होगी,
घटिया सोच के कारण खुद से ही रहे हैं लोग भाग।

घर के आँगन में लगी तुलसी, गृहलक्ष्मी होती है बहु,
जागरूकता फैलाने का सुलक्षणा को लगा है वैराग।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

Author
डॉ सुलक्षणा अहलावत
लिख सकूँ कुछ ऐसा जो दिल को छू जाये, मेरे हर शब्द से मोहब्बत की खुशबु आये। शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार में अंग्रेजी प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हूँ। हरियाणवी लोक गायक श्री रणबीर सिंह बड़वासनी मेरे गुरु हैं। माँ... Read more
Recommended Posts
*लेना नहीं दहेज*
*लेना नहीं दहेज* दहेज कोढ़ है इस दुनिया में, कर लेना परहेज। लेना नहीं दहेज कभी भी, लेना नहीं दहेज।। ना लूंगा ना लेने दूंगा,... Read more
दहेज कुछ न देना
दहेज कुछ न देना. विधा आप हमें बता देना कौन सी है. ????????? हमें कुछ नही चाहिये. बस लड़की संस्कारी चाहिये. शादी ऐसी कर देना.... Read more
दहेज़ ...तेरा कोई अंत नहीं
*********दहेज़ ************ यूं ही चलता आ रहा है, सिसिल्ला दहेज़ दानव का न मिटा है, न कभी मिटेगा , यह जेहर दहेज़ का न जाने... Read more
मैं बेटी हूँ
???? मैं बेटी हूँ..... मैं गुड़िया मिट्टी की हूँ। खामोश सदा मैं रहती हूँ। मैं बेटी हूँ..... मैं धरती माँ की बेटी हूँ। निःश्वास साँस... Read more