.
Skip to content

दहेज एक राक्षस

दिनेश एल०

दिनेश एल० "जैहिंद"

लघु कथा

April 23, 2017

लघुकथा : दहेज एक राक्षस
दिनेश एल० “जैहिंद”

बिन ब्याही कमला खुद को एकांकी पाकर आज अतीत के गलियारे में गोता लगा रही थी । वह पैंसठवां वसंत पार कर चुकी थी । न चाहते हुए भी वह अपने भयानक अतीत में खो जाती है — “चालीस वर्ष पहले की ही तो बात है । द्वार पर बारात आ चुकी थी । मैं कमरे में सजी-सँवरी सखियों के बीच दुल्हन बनी बैठी थी । दूल्हे राजा, सारे बाराती व सारे नाते-रिश्तेदार द्वार पर इकट्ठे हो चुके थे । द्वार-पूजा की रस्में पूरी होने ही वाली थीं । तभी दहेज के बाकी पैसे की मांग दूल्हे के बाबूजी ने मेरे पिताजी के आगे रख दी । पिताजी के पास अब एक फूटी कौड़ी न बची थी । लाख मनुहार करने के बाद भी वरपक्ष के लोगों ने एक न सुनी । बारात द्वार से फिर गई, पिताजी यह सदमा सह न सके । उसी वक्त उनका प्राणांत हो गया और मेरे ऊपर तो जैसे बिजली ही गिर पडी थी ।”
पच्चीस वर्षीया जवान कमला दहेज के कारण ब्याहते-ब्याहते रह गई और आज वह उम्र के इस पडाव पर अपनी गांठ बाँधी गईं बातें सोचकर रो पडी—“जब राक्षस रूपी दहेज की बलिवेदी पर मेरी जवानी भेंट चढ़ गई तो मैं अब आजीवन कुंवारी ही रहूँगी । कभी भी ब्याह नहीं करूँगी ।”
अपने दोनों हाथों से अपना चेहरा ढाकके कमला फफक कर रो पडी ।

==============
दिनेश एल० “जैहिंद”
22. 04. 2017

Author
दिनेश एल०
मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का... Read more
Recommended Posts
*लेना नहीं दहेज*
*लेना नहीं दहेज* दहेज कोढ़ है इस दुनिया में, कर लेना परहेज। लेना नहीं दहेज कभी भी, लेना नहीं दहेज।। ना लूंगा ना लेने दूंगा,... Read more
ज़िंदगानी बदल चुकी लाला
ज़िंदगानी बदल चुकी लाला अब कहानी बदल चुकी लाला अब यहाँ कोई भी नहीं राजा रात रानी बदल चुकी लाला मौत बरहक़' सुना हैं साँसो... Read more
दहेज़ एक अभिशाप
मैं करुण वंदना करता हूँ ऐ प्रभु इसे स्वीकार करो सृजनकर्ता खतरे में है अब थोड़ा सा उपकार करो नाहक में मेरी बहना जो हर... Read more
दामिनी का दम जो निकला
जितना दम उतना लड़े फिर हार मानी चल पड़े । दामिनी का दम जो निकला लोग सारे रो पड़े ।। फूल अब कोई कहाँ महफ़ूज... Read more