.
Skip to content

कहां किसी को दर्द

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

कुण्डलिया

February 3, 2017

हैं सभी यहां पर मर्द, कहां किसी को दर्द l
आंखों से दिखता नहीं ,पड़ी हुई है गर्द ll

पड़ी हुई है गर्द ,नहीं कुछ फिर भी पीड़ा l
राम भरोसे देश ,यही अब अपनी पीड़ा ll

आने वाला जाए , कैसा तेरा ठिकाना l
परहित कुछ तो जान ,जो मान मर्द क पाना ll

संजय सिंह” सलिल”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
आंखें
आंखों से गिरा l वह कहां फिर उठा l ऊंची हवेली ll आंखों में पानी l खेत सूख बंजर l मेरी कहानी ll आंखों में... Read more
II अभी तुमने.....II
अभी तुमने यहां देखी कहां अच्छाइयां मेरी l मुझे चलने नहीं देती यहां परछाइयां मेरी ll न हो मुश्किल कहीं जाना, रहो भी दूर कुछ... Read more
सारे फरेब
बिसात है बिछी ,वह खेल रहा है l सारे फरेब दिल , झेल रहा है ll हम प्यादे वह ,बजीर बादशाह l जीत किसकी ,कोई... Read more
II दर्द मुफलिसी का II
ना कोई दोस्त अपना, न पहचान कोई l जिस पर बीते वह ही जाने ,दर्द मुफलिसी का ll मतलबी यह दुनिया, मतलब के सारे रिश्तेl... Read more