.
Skip to content

*दर्द*

Dharmender Arora Musafir

Dharmender Arora Musafir

गज़ल/गीतिका

July 29, 2016

आधार छंद =आनंदवर्धक
मापनी =2122 2122 212
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
दर्द में भी मुस्कुराना आ गया
आँख में आँसू छिपाना आ गया
~~~~~~~~~~~~~~~~~
नफरतों को दिल ‘से ‘सारी भूल कर
प्रीत के ही गीत गाना आ गया
~~~~~~~~~~~~~~~~
बचपनों की देख कर अठखेलियाँ
याद फिर गु़जरा जमाना आ गया
~~~~~~~~~~~~~~~~~
उलझनें दिल से हमारे मिट गयी
आज फिर मौसम सुहाना आ गया ~~~~~~~~~~~~~~~~~
ज़िंदगी में अब नहीँ हैं आंधियाँ
मुश्किलों से पार पाना आ गया

Author
Dharmender Arora Musafir
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान *
Recommended Posts
*मौत से नज़रें मिलाना आ गया*
2122 2122 212 दर्द दिल का फ़िर लबों पर आ गया याद जब  गुज़रा ज़माना आ गया फूल को दिल में बसाया था मगर  ख़ार... Read more
खयाल
सुन, तेरी उल्फतों पर मलाल आ गया, बनी आंखें झरना,हाथ रुमाल आ गया। जब यूं ही बैठे बैठे खयाल आ गया, तब समंदर में दिल... Read more
हाथ में इक खत पुराना आ गया।
हाथ में इक खत पुराना आ गया। याद फिर गुजरा जमाना आ गया।। 1 प्यार से देखा उन्होने जब हमें। तो हमें भी मुस्कुराना आ... Read more
ग़ज़ल
दर्द को अब मुँह चिढ़ाना आ गया, आसुंओं में मुस्कुराना आ गया। फ़र्ज़ पर देकर बयाना मौत को, क़र्ज़ साँसों का चुकाना आ गया। हाय... Read more