.
Skip to content

दर्द शहीद के परिवार का

डॉ सुलक्षणा अहलावत

डॉ सुलक्षणा अहलावत

कविता

August 11, 2016

छाती उस माँ की भी फ़टी होगी,
दुनिया उस बाप की भी लूटी होगी,
जिसका बेटा शहीद हो गया यहाँ।

चरणों को जब उसने छुआ होगा,
दर्द उस पत्नी को भी हुआ होगा,
जिसका पति शहीद हो गया यहाँ।

आँखें नम उस संतान की भी हुई होंगी,
दर्द की उसके तन मन में चुभी सुई होंगी,
जिसका बाप शहीद हो गया यहाँ।

ये किस मानवाधिकार आयोग के पास जाएँ,
कौन सुनेगा इनके दर्द को किस से आस लगाएँ,
जिनका सब कुछ शहीद हो गया यहाँ।

आंतकवादी में भटका इंसान नजर आ जाता है
पर इंसानों को मारता हैवान नजर नहीं आता है,
जिसके कारण कितने शहीद हो गए यहाँ।

शहादत पर घटिया ब्यान देने वाले भूल जाते हैं,
उन्हीं की वजह से हम रातों को चैन से सो पाते हैं,
जो हमारे लिए शहीद हो गए यहाँ।

मिले फुर्सत तो जाकर देखना दर्द उनका,
सुलक्षणा हो सके तो लिखना दर्द उनका,
जो हँसते हँसते शहीद हो गए यहाँ।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

Author
डॉ सुलक्षणा अहलावत
लिख सकूँ कुछ ऐसा जो दिल को छू जाये, मेरे हर शब्द से मोहब्बत की खुशबु आये। शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार में अंग्रेजी प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हूँ। हरियाणवी लोक गायक श्री रणबीर सिंह बड़वासनी मेरे गुरु हैं। माँ... Read more
Recommended Posts
वो ही देश पे शहीद हुआ
नमन शहीदों और उनके परिवारों को ... कोई नोटों पे शहीद हुआ कोई वोटों पे शहीद हुआ जिसका था ईमान सच्चा वो ही देश पे... Read more
दुनिया तब दीवानी होगी।
दुनिया तब दीवानी होगी। जब शेर में रवानी होगी।। शाइरी अगर सीखनी तुम्हें। दिल में आग लगानी होगी।। दोस्त अगर कहते हो मुझको। सारी बात... Read more
दर्द का मारा होगा गीत !
दर्द का मारा होगा गीत ! बिछुड़ जब जाये किसी का मीत, दर्द का मारा होगा गीत, जहाँ से मन हो जाये उचाट, दर्द भी... Read more
जख्म दिल का भला कैसे छिपाया होगा
जख्म दिल का भला कैसे छिपाया होगा उभरकर सामने ही दर्द जब आया होगा दास्तां बेवफ़ाई की सुन उस सितमगर की अपना टूटा हुआ दिल... Read more