.
Skip to content

दर्द बेटी का

डॉ सुलक्षणा अहलावत

डॉ सुलक्षणा अहलावत

कविता

September 13, 2016

हाये प्रभु क्यों मुझे लड़की बना
आपने भेजा इस पापी संसार में।
जहाँ लोग गूंगे बहरे बने रहते हैं
इज्जत लूट ली जाती भरे बाजार में।

जन्म से लेकर बुढ़ापे तक
हवस के पुजारी पीछे पड़े रहते हैं।
जिस राह से भी निकलूँ मैं
उसी राह में छेड़ने के लिए खड़े रहते हैं।

कसी जाती हैं फब्तियाँ मुझ पर
कोई नमकीन कहता है कोई फीकी।
किसी की नजर मेरी छाती पर तो
किसी की कमर पर रहती टिकी।

कोई फुलझड़ी तो कोई माल कहता है
कोई देखते ही कुटील मुस्कान देता है।
जब भी होता है आना जाना भीड़ में
कोई मनचला यहाँ वहाँ चुटकी काट लेता है।

हर कोई कहता अपने दोस्तों से
मैं इस कली को कली से फूल बनाना चाहता हूँ।
यार कुछ भी करना पड़े मुझे
बस इसे एक रात के लिए पाना चाहता हूँ।

जब भी करती हूँ इनका विरोध मैं
देखी नहीं सती सावित्री कह मुझे चालू कहते हैं।
कोई उन मनचलों को कुछ नहीं कहता
बन तमाशगीर लोग तमाशा देखते रहते हैं।

अपने घर वालों को कहती हूँ तो
वो भी मुझे सावधानी बरतने की हिदायत देते हैं।
कहकर घोर कलयुग आ गया वो चुप हो जाते हैं
ऐसे चुप रहकर वो भी मनचलों की हिमायत लेते हैं।

अब तो क्या घरवाले क्या बाहर वाले
मुझे तो हर किसी से डर लगने लगा है।
हे मेरे प्रभु तुमसे क्या छिपा है तुम्हें सब पता है,
हर कोई खा जाने वाली नजरों से घूरने लगा है।

ये दुनिया वाले भी बड़े खराब हैं “सुलक्षणा”
ऊँच नीच होने पर लड़की को ही दोषी ठहराते हैं।
इज्जत लड़की की नहीं मनचलों की गयी,
झूठी मर्दानगी के बोझ तले दबे सच को नहीं अपनाते हैं।

Author
डॉ सुलक्षणा अहलावत
लिख सकूँ कुछ ऐसा जो दिल को छू जाये, मेरे हर शब्द से मोहब्बत की खुशबु आये। शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार में अंग्रेजी प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हूँ। हरियाणवी लोक गायक श्री रणबीर सिंह बड़वासनी मेरे गुरु हैं। माँ... Read more
Recommended Posts
ग़ज़ल ..'..  याद रहते हैं..'
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ नज़ारे याद रहते हैं.....पुराने याद रहते हैं कभी न भूल सकते पल सुहाने याद रहते हैं सिलसिला निकल पड़ता है खर्चे का .. तीज... Read more
रहते हो दिल के करीब ..रहते हो दिल के पास
NIRA Rani कविता Sep 30, 2016
रहते हो दिल के करीब रहते हो दिल के पास अजनबी सा लगने लगा हर शय जब से तुम हो रूह के रेशे के पास... Read more
गीत- कहने को तो साथ हमारे चाँद-सितारे रहते हैं
गीत- कहने को तो साथ हमारे चाँद-सितारे रहते हैं ________________________________ तुम रहते हो, खुशियों के भी मौसम सारे रहते हैं फिर भी हम जीवन में... Read more
हम उनकी यादों में
हम उनकी यादों में कुछ इस क़दर खोये रहते है। ख़्वाबों में अक्स उनका संजोए रहते है। चलती फ़िज़ाए भी एहसास उसका कराती है। कुछ... Read more