31.5k Members 51.8k Posts

दर्द पिता की मौत का

उन क्षणों का दर्द
कोई नहीं समझ सकता इस संसार में
जब तक वो क्षण जिंदगी में ना आएं
घर में छोटा था मैं
पर
अचानक से बड़ा बन गया मैं
मुझे हालातों ने बड़ा बना दिया था
हस्पताल के उस पलंग पर
मेरी आँखों के सामने
वो पिता जी की लाश नहीं थी
वो तो जिम्मेदारियों की गठड़ी थी
ना जाने कहाँ से मेरे अंदर इतनी ताकत आई
एक पल में उस गठड़ी को सिर पर उठा लिया
बहनों को फोन किया
परिवारों वालों को सूचना दी
फिर साथ में आई भाईयों को संभाला
ना जाने कौन मेरे अंदर घुस गया था
ना जाने वो कौनसी ताकत थी
एम्बुलेंस करके पिता जी की लाश को घर लाया
माँ सुबक रही थी उसको चुप करवाया
भाई को दिलासा दिया
बहनों को समझाया
मैं खुद तो पत्थर सा हो गया था
मेरे आँसू सुख गए अचानक से ही
जब चले अर्थी को लेकर श्मशान में
तो दिल फट ही गया
मेरे आँसुओं के साथ इंद्रदेव भी बरसने लगे
जैसे ही दी मुखाग्नि मैंने
ना जाने वो ताकत कहाँ चली गयी
पैरों की जान निकल गयी
और मैं वहीं बैठ गया
चिता को देखता रहा टकटकी लगाए
परिवार वालों ने संभाला मुझे
कँधे से लगाकर समझाया
वो ही बातें कही जो मैं भी कहा करता था औरों को
पर उस दर्द को आज महसूस किया
आज अहसास हुआ मुझे दर्द का
आज मैं ही जानता था मैंने क्या खोया
अब छोटे कँधे मेरे जिम्मेदारियों के बोझ को उठाये थे
पूरे घर की जिम्मेदारी मुझ पर ही तो थी अब
तीसरे दिन सुबह फिर श्मशान में गया
पण्डित जी भी साथ में थे
लेकर पिता जी की अस्थियों को
चला परिवार वालों के साथ
उनकी मुक्ति की कामना मन में लिए
गढ़मुक्तेश्वर धाम की ओर
वहाँ जाकर सारी क्रिया, रस्में पूरी की
फिर गंगा मैया के बीच में अस्थियों को विसर्जित कर दिया
बस यहीं तक का साथ पिता जी का
अब तो यादों में ही रह गए पिता जी
उनकी मृत्यु का शौक मनाने आने वाले
देकर जा रहे थे मुझे झूठी तसल्लियाँ
पर सच बात तो मुझे “सुलक्षणा” कह गयी
बोली सिर पर हाथ रखकर मुझसे
बेटा तुम्हें खुद को संभालते हुए घर संभालना है
हम सांत्वना ही दे सकते हैं और कुछ नहीं
मदद एक बार करेंगे तो सौ बार अहसान जताएंगे
अब भगवान का ध्यान धरते हुए आगे बढ़ो
परमात्मा तुम्हें कामयाबी दे खुशहाली दे
उन्होंने कहा तुम्हारे पिता जी कहीं नहीं गए
वो साथ हैं तुम्हारे उनकी यादों के रूप में
और उनके द्वारा दिये व्यवहारिक ज्ञान के रूप में
जब भी कोई कार्य करोगे तुम
वो तुम्हारे अंदर से तुम्हें जरूर बताएंगे
कि तुम सही कर रहे हो या गलत
बस इसी बात से मुझे नई दिशा मिली
पिता जी के आदर्शों के साथ जीने की

©® डॉ सुलक्षणा

5 Likes · 262 Views
डॉ सुलक्षणा अहलावत
डॉ सुलक्षणा अहलावत
रोहतक
124 Posts · 67.2k Views
लिख सकूँ कुछ ऐसा जो दिल को छू जाये, मेरे हर शब्द से मोहब्बत की...
You may also like: