Skip to content

दर्द दिल का न जलाओ तुम

बबीता अग्रवाल #कँवल

बबीता अग्रवाल #कँवल

गज़ल/गीतिका

December 5, 2016

दर्द दिल का न जलाओ तुम
अब न मेरे करीब आओ तुम

जख्म मेरा भरा नहीं है अभी
यूँ न सितम ये और ढाओ तुम

परेशां हूं मैं तेरी ही बातों से
और न मुझे अब सताओं तुम

दफ्न है दिल में सफर यादों का
के उसे ना अब सुलगाओं तुम

बेवफ़ाई से तेरी बहुत तड़पी हूं
अब ना और मुझे तड़पाओं तुम

रुलाई न छूट जाये कँवल की
के यहाँ से अब चले जाओ तुम

बबीता अग्रवाल #कँवल

Author
बबीता अग्रवाल #कँवल
जन्मस्थान - सिक्किम फिलहाल - सिलीगुड़ी ( पश्चिम बंगाल ) दैनिक पत्रिका, और सांझा काव्य पत्रिका में रचनायें छपती रहती हैं। (तालीम तो हासिल नहीं है पर जो भी लिखती हूँ, दिल से लिखती हूँ)
Recommended Posts
क्यों हो खफा यू तुम बताओ अब मुझे
क्यों हो खफा यू तुम बताओ अब मुझे, चुप इस कदर रह मत सताओ अब मुझे, अच्छे नहीं लगते मुझे रूठे से तुम, कोई सुहाना... Read more
मैं और तुम
मैं और तुम मैं प्यासा सागर तट का मैं दर्पण हूँ तेरी छाया का मैं ज्वाला हूँ तड़पन का मैं राही हूँ प्यार मे भटका... Read more
मेरे दर्द का हिसाब/मंदीप
मेरे दिल का हिसाब.......मंदीप मेरे दर्द का अब तू हिसाब लगा ले, तड़पा हूँ बहुत अब तो गले से लगा ले। तेरी जुदाई में गिरे... Read more
[[ प्यार  करते  हैं सनम  तुम को सितारों की तरह ]]
? प्यार करते हैं सनम तुम को सितारों की तरह हमने चाहा है तुम्हे चाहने वालों की तरह हुस्ने मत्ला नाम आता है ते'रा लब... Read more