.
Skip to content

दर्द चिर सोत रहा

अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'

अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'

गीत

July 17, 2017

*विधा- नवगीत*
*दर्द चिर सोता रहा*
————————————————-
चाहतें सहमी हुई हैं
आहटों को सुन पुकारे।

दर्द चिर सोता रहा
अश्रु की चादर लपेटे।
छुप गयी संवेदनाएं
मुट्ठियों में दिल समेटे।

डर रही परछाइयों से
चल रही तम के सहारे।

आंधियां हर रोज आकर
खटखटातीं खिडकियां।
सब विखर जाता भले ही
मौन मन की झांकियां।

हूँ अकेला जान छाया
कर रही मुझको किनारे।

भाग आया हर किसी के
भाग के दुख को चुराकर।
पर रिवाजों को निभाते
गिर पडा हूँ लडखडाकर।

अब किन्हीं चिन्गारियों ने
पथ नहीं मेरे सँवारे।
चाहतें सहमी हुई हैं
आहटों को सुन पुकारे।
—————————————————————
अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ, सबलगढ,मुरैना (म.प्र.)

Author
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
कार्य- अध्ययन (स्नातकोत्तर) पता- रामपुर कलाँ,सबलगढ, जिला- मुरैना(म.प्र.)/ पिनकोड-476229 मो-08827040078
Recommended Posts
आदमी अमीर हूँ
आदमी अमीर हूँ खो चुका ज़मीर हूँ जो न खुल के रो सकी वो जिगर की पीर हूँ जख़्म के जहान की दर्द की नज़ीर... Read more
**** भीषण गर्मी ****
**** भीषण गर्मी **** यूँ गर्मी का रंग चढ़ा ,उल्का सी पड़ी है आँगन में । रुष्ठ हुए हैं इन्द्रदेव ,आग लगी है सावन में... Read more
ख़ुदकुशी करने के मैं रोज बहाने ढूँढने लगा हूँ
ख़ुदकुशी करने के मैं रोज बहाने ढूँढने लगा हूँ जी में रड़क रही है साँसे जैसे मैं मरने लगा हूँ सीने के जख्मों पे लौट... Read more
गज़ल
मेरे दिल पे ख्वाबों का पहरा रहा है मुहब्बत को दिल ये तडपता रहा है न तारे से पूछो कभी दर्द उसका जो अम्बर से... Read more