गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

दर्द का ज़ाम पीना नही आया

ज़िन्दगी को ज़ीना नही आया
दर्द का ज़ाम पीना नही आया

दर बदर भटकते रहे ज़ालिम दुनिया में
पर लोगों को समझना नहीं आया

नक़ाब तो हज़ार थे इस जहाँ में
मुखोटों के साथ ज़ीना नही आया

पीठ पर सरहाते हुए हाथ से
हाथो को खंज़र चलाना नही आया

बदलते समय के तरह समय के साथ
मौसम की तरह बदलना नही आया

अज़ब जज़्ब है हक़्मारानो कि कुर्सी में
ज़फ़र(जीत)के लिए नखरे(डिंगहांकना)नही आया

हाथ सदा मदद के लिए उठते है
गरीबों हक़ की रोटी छीनना नही आया

दूसरों के सहारे तो जनाज़े उठते है
पैर खींचकर दूसरों के आगे बढ़ना नही आया

मुश्किल है हालात तो क्या हुआ
मुश्किल हालातों में भूपेंद्र को झुकना नही आया

भूपेंद्र रावत
22।08।2017

1 Like · 101 Views
Like
318 Posts · 23.1k Views
You may also like:
Loading...