कविता · Reading time: 1 minute

***दरद जिया का ***

* सावन आयो सजनवा ना आयो जी
** लायो बहार संग दुःखवा भी लायो जी।
*** रिमझिम बरसे बदरिया से बुंदियां
**** झरझर बरसे हैं गोरिया के अंसुवा।
***** यूं घुलमिल गए दोनों
****** न पहचाने कोई।
******* कौन सा है अंसुवा
******** और कौन सी है बुंदिया।

—-रंजना माथुर दिनांक 27/06/2017
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

126 Views
Like
448 Posts · 32.3k Views
You may also like:
Loading...