Skip to content

दफ्न अब हो रहे रिश्ते भी दौलत तले

बबीता अग्रवाल #कँवल

बबीता अग्रवाल #कँवल

गज़ल/गीतिका

November 26, 2016

उसने मुझको जो दिखाई थी वो जन्नत कैसी
हुस्न वालों में वहाँ देखी नज़ाकत कैसी

दफ्न अब हो रहे रिश्ते भी दौलत के तले
सामने आयी है मेरे ये हकीकत कैसी

नदियां मिलती हैं जाकर समन्दर में ही
फिर भला तुमने उठाई है ये ज़हमत कैसी

मिलकर बिछड़ जाते है क्यों अपने हरदम
हमने अपने लिए पाई है ये किस्मत कैसी

काँटों पे चलके बनाई है ये किस्मत अपनी
हाथों में चाहे लकिरों की हो फ़ितरत कैसी

झूट को देते हैं ताक़त वो अंधेरी शब में
दिन के उजालें में फिर ये सदाक़त कैसी

बोलकर सच ही कँवल मोल ये ज़हमत ले ली
मिल गई बैठे बिठाये ये मुसीबत कैसी

Recommended
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
क्यू नही!
रो कर मुश्कुराते क्यू नही रूठ कर मनाते क्यू नही अपनों को रिझाते क्यू नही प्यार से सँवरते क्यू नही देख कर शर्माते क्यू नही... Read more
Author
बबीता अग्रवाल #कँवल
जन्मस्थान - सिक्किम फिलहाल - सिलीगुड़ी ( पश्चिम बंगाल ) दैनिक पत्रिका, और सांझा काव्य पत्रिका में रचनायें छपती रहती हैं। (तालीम तो हासिल नहीं है पर जो भी लिखती हूँ, दिल से लिखती हूँ)