.
Skip to content

थोड़ी सी जिंदगानी खातर

गंधर्व लोक कवि श्री नंदलाल शर्मा

गंधर्व लोक कवि श्री नंदलाल शर्मा

कविता

January 17, 2017

नदंलाल जी का ब्रह्म ज्ञान…

टेक:थोड़ी सी जिन्दगानी खातिर नर क्या क्या तौफान करै,
तेरा एक मिनट का नहीं भरोसा बरसों का सामान करै।

काया रूपी सराय बीच म भक्ति करने आया तूँ
देख देख धन माल खजाना मन मूर्ख इतराया तू
कुटुम्ब के कारण बणया कमेरा दिन ओर रात कमाया तुँ
धर्म हेत ना धेला खर्चा करोड़पति कह लाया तुँ
जोड़ जोड़ धन करया इकट्ठा ना खर्चे ना दान करै….१

बालकपन हंस खेल गवाँया मिल बच्चां कि टोली मैं
फेर बैरण चढ़ गइ जवानी तु बैठा संगत ओली मैं
बुढ़ा होगया दांत टुट गे सांच रही ना बोली मैं
सब कुनबे नै कड़वा लागय उठा गेर दी पोली मैं
तीनों पन तेरे गये अकारथ ना ईश्वर का गुण गान करै…..२

जिस घोड़ी पै तु चढ़या करै था वा घोड़ी जा गी नाट तेरी
त्रिया संग के प्रीत बावले या जोड़ी जागी पाट तेरी
भाई बंध सब कट्टठे होकैं या तोड़ी जागी खाट तेरी
फेर गेर चिता पै तनैं जलांदीं या फोड़ी जागी टांट तेरी
मात पिता ओर कुटुम्ब कबीला सब मतलब की पहचान करै…..३

बड़े बड़े हो हो मर गे जो निरभय हो डोलया करते
तेरा के अनुमान बावले वो धरती नै तोलया करते
दादा शंकरदास गये जो गूढ अर्थ खोलया करते
केशवराम से नदंलाल जी राम राम बोलया करते
भव सागर से पार उतर जया जै कृपा श्री भगवान करै…….४
तेरा एक मिनट का नहीं भरोसा…………

कवि…..श्री नदंलाल शर्मा
टाइपकर्ता…..दीपक शर्मा

Author
Recommended Posts
बेवफ़ा ज़िंदगी से //ग़ज़ल//
क्यों खफ़ा-खफ़ा सी हो बात क्या है झुकी-झुकी सी नज़रे हैं राज क्या हैं अश्क नैनों के अच्छे लगते नहीं यारा बेचैन दिल की चाह... Read more
500 और 1000 के नोट बन्द होने पर एक कुण्डलिया
काला धन सब लुट गया, कैसे लोगे वोट रद्दी के जैसे हुए, काले धन के नोट काले धन के नोट , पड़ा सर ऐसा डंडा... Read more
क्या हो गया
होते होते ये क्या हो गया जो नहीं था मेरा वह खुदा हो गया देख कर उसको आंखें झुकी न जाने कब यह क्या हो... Read more
नोटबन्दी फैसला सरकार का
नोटबन्दी फैसला सरकार का हाल क्या है देख लो व्यापार का जल्दबाज़ी में लिये क्यूँ फैसले देख लेते दुख जरा लाचार का नोट जो लाखों... Read more